छिन्द की पत्तियों से ग्रीन और हर्बल राखी से महिलाओं को मिल रहा रोजगार

0
2

(रायपुर) छिन्द की पत्तियों से बनी राखी से ग्रामीण महिलाओं को रोजगार का जरिया मिल रहा है। समूह की महिलाएं ने राखी बना रही, बल्कि छिन्द की पत्तियों से अनेक आकर्षक सजावटी वस्तुएं भी तैयार कर रही है। जिला प्रशासन दंतेवाड़ा की पहल पर कलेक्टोरेट परिसर में समूह को बिक्री के लिए स्टॉल भी उपलब्ध कराया गया है। 

 कृषि विज्ञान केन्द्र दंतेवाड़ा द्वारा महिला समूहों के राखी बनाने का प्रशिक्षण भी दिया गया है। इस केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. नारायण साहू ने बताया कि ग्रामीण महिलाओं को रोजगार का जरिया उपलब्ध कराने के लिए हर्बल एवं ग्रीन राखी के साथ ही गुलदस्ते एवं अन्य सजावटी वस्तुएं बनाने के लिए प्रशिक्षण दिया गया है। प्रशिक्षण के दौरान महिला समूहों इन वस्तुओं के निर्माण के लिए छिन्द की पत्तियों सहित विभिन्न प्रकार की सामग्री उपलब्ध कराई गई है। 

 महिला समूहों द्वारा तैयार किए गए ग्रीन एवं हर्बल राखी को लोग पसंद कर रहे हैं। कलेक्टोरेट में लगाए गए बिक्री स्टॉल में राखियां एवं सजावटी वस्तुएं हाथों-हाथ बिक रही है। इन वस्तुओं के निर्माण ग्राम झोडियाबाडम के झारा माता नंदमुरीन महिला कृषक संगठन की महिलाएं श्रीमती रामबती पोडयाम, श्रीमती शर्मिली नाग, कु. राजमनी, ,कु. सरस्वती पोड़झम, कु. रिंकी बघेल, श्रीमती मानसी वासुदेव कर रही है। इनके साथ दिव्यांग अनिल भी राखी बनाने में सहयोग करते हैं। 

 डॉ. नारायण साहू ने बताया कि जिले में आयोजित होने वाले समारोह में अतिथियों के स्वागत के लिए समूह द्वारा तैयार किए गए गुलदस्ते एवं अन्य सजावटी वस्तुएं उपयोग में लायी जाती है। इससे समूह को लगातार आमदनी मिल रही है। जिला प्रशासन दंतेवाड़ा द्वारा महिला समूहों को आर्थिक गतिविधियों के संचालन के लिए लगातार प्रोत्साहन और मदद दी जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here