गोबर का दीपक जला कर के चाइनीस सामान का बहिष्कार करें और देश को आत्मनिर्भर बनाएं -अतुल सिंह

0
33

उत्तर प्रदेश गौ सेवा आयोग के उपाध्यक्ष ने कहा की गोबर से बनाए दीपक प्रदेशभर के नदियों के तट पर जलाए जाएंगे !

कुशीनगर(देवरिया)उत्तर प्रदेश : डॉ आर बी चौधरी

कुशीनगर जनपद अंतर्गत खड्डा ब्लाक के बोधी छपरा गांव में पूर्व प्रधान मुख्य वन संरक्षक डॉ दिलीप सिंह जी द्वारा देसी नस्ल की गायों पर खोले गए आधारित गौशाला का उत्तर प्रदेश के गौ सेवा आयोग के उपाध्यक्ष , अतुल सिंह जी ने उद्घाटन किया . उत्तर प्रदेश गौ सेवा आयोग के उपाध्यक्ष ने अपने संबोधन में कहा कि इतने बड़े पद पर रहने वाले अधिकारी के द्वारा आज के युग में जब देसी गाय लुप्त होती जा रही हैंउसके संरक्षण संवर्धन के लिए समर्पित हुए हैं जो एक बहुत बड़ी बात है.इस अवसर पर आयोग के उपाध्यक्ष ने कहा कि इस बार की दिवालीगोबर से बनाए दीपक को जलाकर किया जाएगा और प्रदेशभर की नदियों के तट पर गोबर के दीपक जलेंगे.

अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि आज हमारे सनातन की परंपरा देसी नस्ल की गायों के गौशाला की शुरुआत करके एवं इनके द्वारा गोबर एवं गोमूत्र से जैविक खाद से रासायनिक खादों से हो रहे नुकसान को खत्म करके ऊसर भूमि को भी उपजाऊ बनाने का जो संकल्प लेकर शहरों की जिंदगी से दूर अपने परिवार को लेकर गांव में रहकर किसानों की दयनीय दशा से मुक्ति दिलाने का एवं निर्धन बच्चों को शिक्षा का सहयोग करने का लोगों में चरित्र आधुनिकता एवं नैतिकता देने का जो कार्य किया जा रहा है .

उपाध्यक्ष ने गौ सेवा के महत्व को बताते हुए कहा कि निश्चय ही आज भारत को विश्व गुरु की बात की जा रही है लेकिन किसी कालखंड में भारत अपने रीत रिवाज संस्कृति तथा समृद्धि के लिए विश्व गुरु था और रहेगा. इस दिशा में भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी एवं उनके मार्गदर्शन में आत्मनिर्भर भारत के अभियान को मूर्त रूप देने के लिए उत्तर प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का अनवरत प्रयास जारी है और आने वाले दिन में आशातीत सफलता मिलेगी.

सिंह ने कहा कि विश्व गुरु बनाने के क्षेत्र में ग्रामीण समृद्धि और ग्रामीण समृद्धि को बल देने के लिए गौ संरक्षण का अभियान एक बहुत ही अच्छा प्रयास है. उत्तर प्रदेश गौ सेवा आयोग के उपाध्यक्ष अपने संभाषण के अंत में एक बार फिर से डॉ दिलीप सिंह की प्रशंसा की और उन्हें शुभकामना देते हुए कहा कि जो इतने बड़े पद पर रहने के बावजूद एसी की हवाओं को छोड़कर गांव में रहकर गांव के समाज में लोगों का भला करने के लिए सामने आए हैं वह बहुत बड़ी बात है , इससे समाज को बहुत बड़ी प्रेरणा मिलेगी .

उन्होंने कहा कि सबसे प्रभावित करने वाली बात यह है कि डॉक्टर सिंह अपनी नौकरी को एक साल पहले ही छोड़कर वीआरएस लेकर शहरों की चकाचौंध से दूर गांव में रहकर समाज के विकास के लिए जो कार्य कर रहे हैं . उसकी जितनी भी प्रशंसा की जाए वह है कम है . निश्चित ही आने वाले दिन में डॉक्टर सिंह द्वारा किए जा रहे कार्यों का अनुकरण किया जाएगा और काफी लोग गौशाला का संचालन करेंगे , ऐसा मेरा विश्वास है.

अतुल सिंह ने उद्घाटन सभा में उपस्थित सभी गौ सेवा प्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों से आग्रह किया कि गाय के गोबर से दीपक बनाइए और इस बार की दिवाली में गोबर से बने दीपक जला कर के चाइनीस सामान का बहिष्कार करें तथा पर्यावरण को सुरक्षित रखिए.गौशालाओं की आमदनी बढ़ाने के लिए गोबर का बेहतर उपयोग किया जाना अत्यंत आवश्यक है . इस दिशा में गोबर के बने हुए दीपक ,गोबर के लट्ठे(लकड़िया) ,मूर्तियां इत्यादिपूरे देश में तेजी के साथ बनाई जा रही है .उत्तर प्रदेश में भी इस तरह काकार्य किया जाना अत्यंत आवश्यक है .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here