सुराजी गांव योजना : सिद्धराम की बाड़ी से हरी सब्जियों का उत्पादन शुरू

0
6

(रायपुर) राज्य सरकार की सुराजी गांव योजना (नरवा, गरूवा, घुरूवा और बाड़ी योजना) के फलस्वरूप किसान सिद्धराम के जीवन में खुशहाली आ रही है। अब उनकी बाड़ी में सब्जियों का उत्पादन भी शुरू हो गया है। अब उन्हें परिवार के लिए बाजार से हरी सब्जियां खरीदी नहीं पड़ रही है। हरी सब्जियों का अधिक उत्पादन होने से वह अपने गांव के बाजार में सब्जियां बेच रहा है, इससे परिवार की आमदनी भी बढ़ी है। बाड़ी विकास के तहत ग्राम बिरकोना में श्री सिद्धराम की बाड़ी किए गए प्रयोग के सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं।

कवर्धा जिले के ग्राम बिरकोना के रहवानी किसान सिद्धराम अपनी बाड़ी में हरी सब्जियों की उत्पादन से बेहद खुश है। उन्होंने अपनी खुशी का जाहिर करते हुए कहा – बरसो बाद अपनी बाड़ी में हरियाली देखी है। उन्होने बताया कि बिरकोना में आयोजित ग्राम चौपाल से उनकी तकदीर बदली है। छत्तीसगढ़ की चार चिन्हारी नरवा, गरूवा, घुरूवा और बाड़ी के विकास के लिए गांव में चौपाल कार्यक्रम आयोजित किया गया था। वहां गौठान निर्माण और बाड़ी विकास के अनेक फायदे बताए थे। 
    
किसान सिद्धराम ने बताया कि कुछ दिनों के भीतर बिरकोना में मॉडल गौठान बना शुरू हुआ। उन्हें अधिकारियों ने बताया कि सुराजी ग्राम योजना के तहत आपके बाड़ी को व्यवस्थित और विकसित किया जाएगा। इससे परिवार को रोज ताजे-ताजे हरी सब्जियां मिलेगी और बाजार से सब्जियां खरीदी भी नहीं पड़ंगी। 

 किसान सिद्धराम का कहना है कि अधिकारियों की बाते सुनकर मैने बाड़ी विकास के तहत अपनी बाड़ी को अधिकारियों को दिखाया। अधिकारियों ने मेरा नाम डायरी में लिखा और दूसरे दिन ही बाड़ी विकास का काम शुरू हो गया। यह बात फरवरी माह की है। चार महीने में बाड़ी का काम पूरा हो गया। बाड़ी में अधिकारियों के मार्गदर्शन में भिड्डी, बरबट्टी, चुरचुटिया, बैगन, तोराई, लौकी, करेला, चेजभाजी, पालक भाजी, लाला भाजी, चौलाई भाजी और जड़ी सब्जी लगाई गई। इसके अलावा क्यारी में धनियां हरी मिर्च भी बोनी की गई। बाड़ी में सब्जियों का उत्पादन होने लगा। यह राज्य सरकार की बहुत अच्छी योजना है, इससे गांव में समृद्धि आएगी।
 
 उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ सरकार की ग्रामीण अजीविका संवर्धन की महत्वपूर्ण योजना नरवा, गरूवा, घुरूवा और बाड़ी के तहत कबीरधाम जिले के 76 ग्राम पंचायतों में मॉडल गोठान का निर्माण किया जा रहा है। बाडी विकास के तहत जिले में 164 नए बाड़ी का विकास करने के लिए हितग्राहियों का चयन कर लिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here